Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views :

Loose Motion ka Ayurvedic Upchar / Dast ka ilaj

/
/
691 Views

दस्त को अंग्रेजी में “Loose Motion” या “Diarrhea” कहा जाता है। दस्त होने का मुख्यत कारण दूषित भोजन या पानी के सेवन करना। दस्त के कारन शारीर में पानी की कमी होने लगती है। दस्त में पेट में दर्द होने लगता है। दस्त / loose motion एक आम बीमारी है, लेकिन समय रहते इसका इलाज न किया गया तो ये खतरनाक भी हो सकता है।

Dast ka ilaj दस्त loose motion होने के कारण पेट ख़राब हो जाता है और बार बार शौचालय जाने की आवश्यकता पड़ती है। दस्त के कारन लोग परेशान हो जाते है। दस्त की बीमारी होने पर कमजोरी होने लगती है। तो चलिए इस पोस्ट में जानेगे दस्त / Loose Motion के लक्षण, कारण और उपचार।

इसे भी अवश्य पढ़े :

एसिडिटी का घरेलु इलाज
पेट दर्द का आयुर्वेदिक उपचार
दादी माँ के नुस्खें द्वारा कब्ज का ईलाज

Loose Motion ka ilaj / Dast ka Gharelu Upchar



Home Remedies for Loose Motion in Hindi - Dast ka ilajSymptoms of Loose Motion in Hindi / Dast ke Lakshan / दस्त के लक्षण

  1. पेट में दर्द और मरोड़ का होना।
  2. Loose Motion के कारण उल्टी होना।
  3. बुखार लगना।
  4. बार बार शौच का आना।
  5. ज्यादा थकान महसूस होना।

Loose Motion Causes / दस्त होने के कारण / Dast ke Karan

  1. दूषित भोजन की वजह से Loose Motion होता है।
  2. दूषित पानी पीने की वजह से दस्त होता है।
  3. पाचनतंत्र या पाचन क्रिया का सही तरीके से काम न करना।

  4. अत्याधिक भोजन करना।
  5. ज्यादा मिर्च मसाले या स्पाइसी भोजन का सेवन करने से Loose Motion होता है।
  6. पानी आवश्यकता से कम पीना।

Home Remedies for Loose Motion in Hindi

Dast

  • फटा हुआ दूध से “दस्त का इलाज” एक कप कच्चा दूध ले और उसमे नीबू का रस मिला कर पिये। आपको दस्त से आराम मिलेगा। याद रहे दूध फटने से पहले सेवन करे।
  • दही और चावल से Dast ka ilaj – “Home Remedies for Loose Motion / Dast” अगर आपको दस्त हो गया है, तो आप अपने भोजन में दही और चावल को शामिल करे। आप चाहे तो मिश्री भी मिला सकते है। इससे आपकी दस्त कुछ ही दिनों में ठीक हो जाएगी।
  • सौंफ और जीरा से दस्त का इलाज – Gharelu Nuskhe for Dast जीरा और सौंफ दोनों को बराबर मात्रा में मिला कर भुन ले और पिस ले। अब इसे आधा चम्मच गुनगुने पानी के साथ ले, आपको आराम मिलेगा।
  • अदरक से “Loose Motion का इलाज” दस्त होने पर अदरक की चाय पिये या अदरक के टुकड़े को चुसे इससे आपको आराम मिलेगा।
  • छोटी इलयची से Dast ka ilaj लगभग 4 से 5 छोटी इलायची को पानी में डाल कर उबाले। अब इसे दिन में तिन बार पिये।

Loose Motion ka ilaj | दस्त का घरेलु उपचार | Dast ka ilaj



  • सरसों के बीज से दस्त का इलाज – “Home Remedies for Loose Motion / Dast” दस्त होने पर आप सरसों के बीज का इस्तेमाल कर सकते है। एक गिलास पानी ले और उसमे एक चम्मच सरसों के बीज को डाल दे। अब लगभग 60 मिनट के लिए छोड़ दे फिर पानी को छान कर उस पानी को पिये। ऐसा आप 2 से 3 बार कर सकते है, इससे आपको आराम मिलेगा।
  • नीबू का रस से दस्त का इलाज – “Gharelu Nuskhe for Loose Motion” एक गिलास पानी में नीबू का रस और एक चम्मच चीनी मिलाये। अब इसमें थोड़ी सी मिलाये अब इस मिश्रण का सेवन करे। इससे आपको आराम मिलेगा, ऐसा आप 2 से 3 घंटे में कर सकते है।
  • छाछ से “दस्त का इलाज” छाछ के सेवन प्रतिदिन करना चाहिए यह पाचनतंत्र के लिए बहुत ही लाभदायक है। एक गिलास छाछ ले, अब उसमे थोड़ी सी जीरा पाउडर और काला नमक मिला ले। अब उसे पिये आपको लाभ मिलेगा।
  • गन्ना से दस्त का इलाज – गन्ने के रस का सेवन करे। इससे आपके शरीर में पानी की कमी भी दूर होगी और दस्त से भी आराम मिलेगा।
  • केला से दस्त का इलाज – “Home Remedies for Loose Motion / Dast” केला और उसमे दही मिलाकर इसका सेवन करे या आप सिर्फ केले का भी सेवन कर सकते है। इससे आपको दस्त से आराम मिलेगा।
  • सौंठ से दस्त का इलाज – “Gharelu Nuskhe for Loose Motion” सबसे पहले सौंठ का पाउडर ले और उसमे शहद मिलाकर इसका सेवन करे। इससे आपको आराम मिलेगा।
  • पुदीने से “दस्त का इलाज” पुदीना और अदरक का रस निकाल ले और मिला ले। अब उसमे नमक मिला ले और पिये आपको आराम मिलेगा।

Home Remedies for Loose Motion in Hindi – दस्त का घरेलु उपचार

  • जामुन की पत्तियों से दस्त का इलाज – जामुन की पत्तियों को पिस ले (जामुन की पत्तियाँ न पकी हुई हो, न मुलायम हो) अब इसमें सेंधा नमक मिला ले। इसे पानी के साथ सुबह और शाम ले सकते है. आपको लाभ मिलेगा।
  • अनार से दस्त का इलाज – “Home Remedies for Loose Motion / Dast” अनार का उपयोग करने से आपको दस्त में राहत मिलेगी। दिन में तिन बार एक-एक कप अनार का जूस पिये या अनार को छिल कर उसके दाने खाये, आपको आराम मिलेगा।

  • मैथी से दस्त का इलाज – “Gharelu Nuskhe for Dast” मैथी को पिस ले और उसका पाउडर तैयार कर ले। सुबह सुबह एक गिलास पानी में दो चम्मच मैथी पाउडर डाले और इसे खाली पेट पिये। आपको लाभ मिलेगा, ऐसा आप तिन दिनों तक करे।
  • पपीता से “दस्त का इलाज” दस्त होने पर पपीता का सेवन का सेवन करना चाहिए।सबसे पहले तिन कप पानी में कच्चा पपीता डाले और गरम करे, लगभग 10 मिनट तक। अब इसे छान कर पी ले आपको लाभ मिलेगा।

Dast ka Gharelu ilaj in Hindi – लूस मोशन का उपचार

  • बेल का पत्ता से दस्त का इलाज – सबसे पहले बेल का पत्ते को पिस ले। अब लगभग दो चम्मच शहद में दो चम्मच बेल के पत्ते का पाउडर मिलाकर खाये। दस्त से आपको आराम मिलेगा।
  • साबूदाना से दस्त का इलाज – Home Remedies for Loose Motion / Dast साबूदाना पाचनतंत्र के लिए लाभदायक है। साबूदाना को पानी में भिगो कर रख दे लगभग तिन घंटो के लिए। अब इसे पिये आपको दस्त और पेट के दर्द से आराम मिलेगा।


  • शहद और दालचीनी पाउडर से दस्त का इलाज – Gharelu Nuskhe for Dast एक चम्मच शहद में आधा चम्मच दालचीनी पाउडर मिला ले और सुबह खाली पेट पानी के साथ इसका सेवन करे। इससे आपको दस्त से आराम मिलेगा।
  • अलसी के बीज से “Loose Motion ka ilaj” थोड़ी सी अलसी के बीज ले और उसे अच्छे से चबाकर खाये। ऐसा दिन भर में चार बार कर सकते है आपको लाभ मिलेगा।

*Loose Motion होने पर लिक्विड लेते रहे। आप ORS के घोल का भी इस्तेमाल कर सकते है।

Precaution During Loose Motion in Hindi  – दस्त के दौरान सावधानियाँ

  1. ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ का सेवन करे।
  2. Loose Motion में हल्का और सादा भोजन का सेवन करे।
  3. हर्बल चाय का सेवन करे।
  4. आलू और मसालेदार भोजन से परहेज करे।
  5. Loose Motion में दूध से बनी चीजों का परहेज करे।

उम्मीद है की, आपको यह लेख उपयोगी लगा होगा। प्लीज इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे। निचे दिए गए बटन को दबाकर अपने ट्वीटर, फेसबुक और गूगल प्लस अकाउंट पर शेयर करे।

एक निवेदन – इस ब्लॉग में दिए गए सभी Beauty tips in Hindi, Skin Care tips in Hindi, Ayurvedic Treatment, Gharelu Nuskhe, Home Remedies, Homeopathy इत्यादि लेख को, लोगो के अनुभव के आधार पर तैयार किया गया है। किसी भी रोग में इन उपायों को अजमाने से पहले चिकित्सक (Doctor) की सलाह जरुर लें। ऊपर बताये गए उपाय और नुस्खे को अपने विवेक के आधार पर इस्तेमाल करें। कोई असुविधा होने पर इस ब्लॉग www.hindiayurveda.com की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी।

|धन्यवाद|

  • Facebook
  • Twitter
  • Google+
  • Linkedin
  • Pinterest

error: Content is protected !!