Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views :

Side Effects of Masturbation in Hindi | हस्तमैथुन के साइड इफेक्ट्स

Masturbation ke nukshan – Side effects of Hastmaithun in Hindi

Side effects of Masturbation आज इस लेख में हस्तमैथुन के साइड इफ़ेक्ट के बारे में जानेंगे। Hastmaithun करना एक शारीरिक प्रक्रिया है। पुरे विश्व में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा। जिसने अपने जीवनकाल में कभी हस्तमैथुन नहीं किया हो। इससे बचा भी नहीं जा सकता है।

Hastmaithun ke side effects in hindi / urdu कभी कभी हस्तमैथुन करने के कोई नुकशान नहीं होता है। लेकिन बार बार करना या गलत तरीके करना, यह नुकशानदेह हो सकता है। कभी-कभी अगर आप हस्तमैथुन करते है, तो यह एक नेचुरल क्रिया है। लेकिन इसी को कम समय के अन्तराल में बार-बार करना, यह आपके लिए सही नहीं है। तो चलिए जानते है – हस्तमैथुन करने के नुकशान के बारे में जानते है।

Masturbation side effects

इसे भी जरुर पढ़े:

Side effects of Masturbation in Hindi /Urdu

1. Masturbation Side effects in Hindi – एक दिन में कई बार हस्तमैथुन करने से वीर्य में शुक्राणु की संख्या में कमी हो सकती है। आपके लिए यह चिंताजनक बात हो सकती है। शुक्राणु की कमी के कारन आपको आगे चलकर पिता बनने की क्षमता पर असर पड़ सकता है। Hast-maithun की लत की वजह से इरेक्टाइल डिसफंक्शन का सामना भी करना पड़ सकता है।

loading…

2. Side effects of Hastmaithun in Hindi – हमेशा हस्तमैथुन करने से लिंग यानी पेनिस में सुजन आ सकती है। कम समय में Masturabtion बार-बार करने से, वीर्य से पहले निकलने वाला द्रव्य पदार्थ मांसपेशियों में चल जाता है। जिसकी वजह से पेनिस यानी लिंग में सुजन आ सकती है। यह सुजन कुछ समय के लिए हो सकता है। जब तक मांसपेशियों से द्रव्य वापस खून में नहीं चला जाता है।

[HINDI] Masturbation Side Effects

3. Side effects of Masturbation in Hindi – जल्दी जल्दी हस्तमैथुन करने से पेनिस की मांसपेशियों के टूटने का खतरा बढ़ जाता है। जब कोई Hastmaithun करता है, तो उस समय पेनिस को कसकर दबाने की कोशिश करता है। जिसकी वजह लिंग की मांसपेशिय टूट सकती है। लिंग की मांसपेशिय के टूटने की वजह से आपका पेनिस टेढा हो जाता है। इसी को पायरोनी कहा जाता है।

4. Masturabtion karne ke Nukshan – हस्तमैथुन के दरम्यान निकलने वाले प्राथमिक द्रव्य, कोशिका संरचना के लिए बहुत जरुरी है। यह द्रव्य मेटाबोलिज्म के लिए भी आवश्यक है। इसीलिए Hastmaithun करने की आदत को फ़ौरन छोड़ने का प्रयास करे।

यह भी अवश्य पढ़े:

Loading…

उम्मीद है की, आपको यह लेख उपयोगी लगा होगा। प्लीज इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे। निचे दिए गए बटन को दबाकर अपने ट्वीटर, फेसबुक और गूगल प्लस अकाउंट पर शेयर करे।

एक निवेदन – इस ब्लॉग में दिए गए सभी Health tips in Hindi, Beauty tips in Hindi, Skin Care tips in Hindi, Ayurvedic Treatment, Gharelu Nuskhe, Home Remedies, Healthy Food in Hindi, और Homeopathy इत्यादि लेख को, लोगो के अनुभव के आधार पर तैयार किया गया है। किसी भी रोग में इन उपायों को अजमाने से पहले चिकित्सक (Doctor) की सलाह जरुर लें। ऊपर बताये गए उपाय और नुस्खे को अपने विवेक के आधार पर इस्तेमाल करें। कोई असुविधा होने पर इस ब्लॉग www.hindiayurveda.com की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी।

|धन्यवाद|

It is main inner container footer text
error: Content is protected !!