Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views : Ad Clicks :Ad Views :

टीबी का घरेलू इलाज – TB Treatment in Hindi

/
/
322 Views

TB Treatment in Hindi आज इस लेख में क्षय रोग / टीबी के कारण, लक्षण और उपचार के बारें में जानेंगे। आयुर्वेद के अनुशार क्षय रोग / टीबी रोग को राजयक्ष्मा कहा गया है। जिसका अर्थ है रोगों का राजा। यह शरीर के फेफड़े में होने वाला रोग है। जब फेफड़ों (Lungs) में “Mycobacterium Tuberculosis” नाम का जीवाणु असर के कारण यह रोग होता है। किसी भी उम्र के व्यक्ति क्षय रोग यानी टीबी की बीमारी हो सकती है। 1 अनुमान के अनुशार पूरी दुनिया में लगभग 3 में से 1 व्यक्ति टीबी की बीमारी से पीड़ित है।

यक्ष्मा या क्षय रोग का क्या है – गल जाना यक्ष्मा शब्द का मतलब होता है। यानी उस हिस्से का खोखला हो जाना या ख़राब हो जाना।

TB Treatment in Hindi यह बीमारी जल्दी पकड़ में नहीं आती है। लेकिन समय रहते अगर TB रोग का इलाज न हुआ। तो रोगी की मौत भी हो सकती है। हर वर्ष भारत में लाखों लोग इस रोग के चपेट आ रहे है। एक आंकड़े के अनुशार पुरे विश्व में टीबी के के कारन हर वर्ष लगभग 30 लाख लोगो की मौत हो रही है।


क्षय रोग के कारण – TB Causes in Hindi

TB Causes in Hindi – यह एक संक्रमण रोग है। कई बार ऐसा होता है की हमारे आस-पास T.B. के जीवाणु होते है। अब जिनका रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है। उन्हें यह संक्रमन रोग हो सकता है। इसके अलावा इस रोग को फ़ैलाने में, कई बार टीबी से पीड़ित व्यक्ति सबसे बड़ा वाहक होता है। TB का मरीज जब थूकता है या खांसता और छिकता है। तब TB के जीवाणु हवा में फ़ैल जाता है। HIV से पीड़ित व्यक्ति को क्षय रोग की बीमारी जल्दी होती है। यह रोग इंसानों के अलावा जानवरों में भी पाया जाता है। टीबी होने के कई कारण हो सकते है।

TB Treatment in Hindi

Image Source : LiveStrong.com

  • गंदगी एक सबसे बड़ा कारण है।
  • शरीर में पोषण तत्व का कमी होना। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है। यह भी टीबी होने का 1 कारण है।
  • टीबी रोगी का खून किसी दुसरे के शरीर में चढ़ाने से होता है।
  • गाय का कच्चा दूध पीने की वजह से टी.बी. होने की आशंका बढ़ जाती है।

  • कई बीमारियाँ जैसे – एचआईवी, मीजल्स और न्यूमोनिया इत्यादि होने की वजह से भी T.B. हो सकती है।
  • रोगी का वस्तुओं का उपयोग करना और रोगी के सम्पर्क में रहना

TB Symptoms in Hindi | टीबी के लक्षण | TB ke Lakshan

  • खांसी का अधिक समय तक होना यानी 3 सप्ताह से ज्यादा होना।
  • बार-बार खांसी (Cough) की शिकायत होना।
  • भूख में कमी का होना।
  • खाँसने के द्वारा खून का बाहर आना।
  • बलगम में रक्त का आना।
  • रात के वक्त ज्यादा पसीना निकलना।
  • शरीर के वजन का अचानक कम हो जाना।
  • हमेशा कमजोरी और थकान का अनुभव होना।
  • शाम के वक़्त बुखार का आना।


  • ज्यादा समय का बुखार।
  • गले के आस-पास सुजन होना।
  • गले के पास गिलटी का होना।
  • लम्बे वक़्त तक सिने में दर्द का होना।
  • अगर टीबी रीड की हड्डी में है, तो पैरो में कमजोरी और पीठ में दर्द महसूस होना।

TB Treatment in Hindi – टीबी का घरेलू इलाज

1. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – सबसे पहले गुनगुना बकरी का दूध लगभग 20 ग्राम लीजिये। अब उसमें लगभग 10 ग्राम पीपल के पेड़ की राख मिलाकर सेवन करें। ऐसा रोजाना सुबह और शाम करें। आब चाहे तो इसमें शहद या मिश्री भी मिला सकते है। इस घरेलु उपाय के द्वारा टीबी के रोग से छुटकारा पाया जा सकता है।

इसे भी अवश्य पढ़े : बरगद के पेड़ के बेहतरीन और अनोखे फायदे हिंदी में।

2. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – सहजन की फली और पत्ते का सेवन करें। क्यूंकि यह जीवाणु को ख़त्म करने का काम करता है। उसके साथ-साथ यह सुजन नाशक भी होता है। लगभग 1 गिलास पानी में 1 मुठ्ठी सहजन का पत्ता डालकर उबालें। अब उसमें निम्बू का रस, नमक और काली मिर्च मिलाये। इसे रोजाना सुबह खली पेट पिए। यह T.B. के जवाणुओं को खत्म करता है।

यह भी अवश्य पढ़े : लगभग 300 बिमारियों में सहजन के फायदे हिंदी में।

3. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – क्षय रोग की समस्या में लहसुन फायदेमंद होता है। इसमें एलीसिन नाम का तत्व होता है। जो जीवाणु को बढ़ने नहीं देता है। यह घरेलु उपाय आपके लिए लाभकारी होगा। सबसे पहले 4 से 5 लहसुन की कली को पीस लें। अब 4 कप पानी में लगभग 1 कप दूध में पीसी हुई लहसुन डालकर उबाले। अब तब तक उबालें, जब तक ¼ न रह जाये। उसके बाद ठंडा करके पी लें। दिन में ऐसा 2 से 3 बार करें। इसके अलावा 1 गिलास गर्म दूध में लगभग 8 से 10 बूंद लहसुन का रस डालकर पीजिये। रात में सोने से पहले पिए, आपको फायदा होगा।

इसे भी जरुर पढ़े : लहसुन के गुण और उसके फायदे की जानकारी हिंदी में।

टीबी का घरेलू इलाज | TB Treatment in Hindi



4. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – यह घरेलु नुस्खे अपनाकर टी.बी. की समस्या को दूर कर सकते है। सबसे पहले 100 ग्राम शुद्ध घी में 200-200 मिश्री और शहद मिला लें। अब इस मिश्रण को 5 ग्राम चाटें और ऊपर से बकरी या गाय का दूध पी लें। ऐसा दिन 2 se 3 बार करें। आपको अत्यंत फायदा होगा।

यह भी जरुर पढ़े : गाय का दूध पीने के फायदे की जानकारी हिंदी में।

5. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – इस बीमारी में रुदंती का फल लाभकारी होता है। इसके फल से बना चूर्ण का सेवन फायदेमंद होता है। आप चाहे रुदंती के कैप्सूल का इस्तेमाल कर सकते है। आपको फायदा होगा।

6. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – यह विधि भी कारगर होता है। सबसे पहले 1 गिलास गाय का दूध लीजिये। अब उसमें 1 चम्मच हल्दी पाउडर और ½ चम्मच गाय का घी डालकर गर्म करें। इस मिश्रण को रात में सोने से पहले पिए। इससे आपको जल्द ही फायदा दिखेगा।

इसे भी अवश्य पढ़े : गाय के घी के अनोखे लाभ की जानकारी हिंदी में।

7. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – इस समस्या में आंवला का इस्तेमाल फायदेमंद होता है। इसमें जीवाणु नाशक गुण पाया जाता है। साथ ही साथ आंवला शरीर को जरुरी पोषक तत्व प्रदान करता है। सबसे पहले 4 से 5 लें। अब उन सभी का बीज निकाल लें। फिर जूसर के द्वारा उसका रस निकाल लें। अब उस आंवले के रस को सुबह खली पेट सेवन करें। इसके अलावा आप चाहे तो, आंवले का चूर्ण या कच्चा आंवला का भी सेवन कर सकते है।

टी बी का आयुर्वेदिक उपचार – Tuberculosis in Hindi

8. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – इस रोग को दूर करने के लिए, केला एक अच्छा घरेलु उपाय है। केला पोष्टिक तत्व से भरपूर होता है। जो शरीर के रोग प्रति रोधक क्षमता को मजबूत बनाता है। यह घरेलु नुस्खा जरुर अपनाये। सबसे पहले 1 कप नारियल का पानी लें। अब उसमे 1 पका हुआ केला मसलकर मिलाये। फिर उसमें 1 चम्मच शहद और ½ कप दही मिलाकर सेवन करें। ऐसा दिन में 2 बार करें, फायदा होगा।

यह भी अवश्य पढ़े : केला के बेहतरीन लाभ की जानकारी हिंदी में।

9. TB Treatment in Hindi

loading…

टीबी का घरेलू इलाज – इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को रोजाना प्याज का रस पीना चहिये। सबसे पहले प्याज का रस लगभग ½ कप निकाल लें। अब उसमे थोडा सा हींग डाल दें। अब इस नुस्खे को खली पेट सेवन करें। ऐसा सुबह और शाम करें। कुछ ही दिनों में आपको फर्क महसूस होगा।

इसे भी जरुर पढ़े : प्याज के रस के फायदे हिंदी में।

10. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – यह भी एक कारगर नुस्खा है। जो टी.बी. की समस्या से छुटकारा दिलाता है। सबसे पहले पत्थर के कोयले का सफ़ेद राख लगभग ½ ग्राम लीजिये। अब गाय के दूध के साथ राख का सेवन करें। ऐसा सुबह और शाम को करें। आप चाहे तो मक्खन या मलाई का भी इस्तेमाल कर सकते है। इससे आपको लाभ मिलेगा।

TB ka ilaj | टीबी का घरेलू इलाज | Tuberculosis in Hindi

Loading…

11. TB Treatment in Hindi

टीबी का घरेलू इलाज – संतरा का लगातार सेवन करने से, यह प्रतिरक्षा प्रणाली को सही बनाता है। संतरे का सेवन करने से, यह कफ को आसानी से बाहर निकाल देता है। रोजाना सुबह और शाम 1 गिलास संतरे के रस में 1 चम्मच शहद और चुटकी भर नमक मिलाकर सेवन करें। आपको अत्यंत फायदा मिलेगा।

टी.बी. से बचने के अन्य उपाय

  • कोई व्यक्ति अगर आपके आस-पास ज्यादा समय तक खांसता है, तो उस व्यक्ति के नजदीक न जाये।
  • जुकाम अथवा खांसी होने पर खुद का ही रुमाल का इस्तेमाल करें।
  • कैल्शियम, विटामिन्स, प्रोटीन, मिनरल और फाइबर इत्यादि युक्त आहार का सेवन करें। पोषण युक्त पोष्टिक आहार प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाती है।
  • बीसीजी (B.C.G) का टिका बच्चों को जरुर लगवाए। यह टिका T.B. होने की संभावना को कम करता है।
  • अगर किसी व्यक्ति को लगभग 2 सप्ताह से ज्यादा समय तक खांसी की समस्या है। तो उस व्यक्ति को तुरंत डॉक्टर संपर्क करना चाहिए।
  • बाहर से आने के बाद, घर में घुसते ही हाथ और पांव को अच्छी तरह धो लें।

टीबी का घरेलू इलाज, टी बी का आयुर्वेदिक उपचार, Tuberculosis in Hindi, tb treatment in hindi, tb symptoms in hindi, TB ka ilaj, tb ke Lakshan,

उम्मीद है की, आपको यह लेख उपयोगी लगा होगा। प्लीज इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे। निचे दिए गए बटन को दबाकर अपने ट्वीटर, फेसबुक और गूगल प्लस अकाउंट पर शेयर करे।

एक निवेदन – इस ब्लॉग में दिए गए सभी Health tips in Hindi, Beauty tips in Hindi, Skin Care tips in Hindi, Ayurvedic Treatment, Gharelu Nuskhe, Home Remedies, Healthy Food in Hindi, और Homeopathy इत्यादि लेख को, लोगो के अनुभव के आधार पर तैयार किया गया है। किसी भी रोग में इन उपायों को अजमाने से पहले चिकित्सक (Doctor) की सलाह जरुर लें। ऊपर बताये गए उपाय और नुस्खे को अपने विवेक के आधार पर इस्तेमाल करें। कोई असुविधा होने पर इस ब्लॉग www.hindiayurveda.com की कोई भी जिम्मेदारी नहीं होगी।

|धन्यवाद|

  • Facebook
  • Twitter
  • Google+
  • Linkedin
  • Pinterest

error: Content is protected !!